Movie Review: शेफ

 Movie Review: शेफ
प्रोड्यूसर : भूषण कुमार, क्रिशन कुमार, राजा कृष्णा मेनन, विक्रम मल्होत्रा
डायरेक्टर :  राजा कृष्णा मेनन
स्टार कास्ट : सैफ अली खान, पद्मप्रिया जानकीरमन, स्वर कांबले, मिलिंद सोमन, चंदन रॉय सान्याल
म्यूजिक डायरेक्टर : रघू दीक्षित, अमाल मलिक
रेटिंग **1/2


हर कामयाबी की एक कीमत होती है। लेकिन कई बार कीमत इतनी ज्यादा होती है कि इंसान सोच में पड़ जाता है कि कामयाबी जरूरी थी या कीमत। इस शुक्रवार रिलीज होने वाली सैफ अली खान की फिल्म ‘शेफ’ भी इसी थीम पर आधारित है। डायरेक्टर राजा कृष्णन मेनन की ये फिल्म हॉलीवुड फिल्म ‘शेफ’ की आधिकारिक रीमेक है। हॉलीवुड की इस फिल्म ने रिलीज के बाद धीरे-धीरे कामयाबी पाई थी। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या इस भारतीय ‘शेफ’ के पास भी वो खास रेसिपी है जो दर्शकों के स्वाद पर खरी उतरेगी? आइए जानते है कैसी है ये फिल्म।

कहानी

फिल्म फिल्म की कहानी दिल्ली के चांदनी चौक से शुरु होती है जहां रोशन कालरा(सैफ अली खान) अपने पेरेंट्स के साथ रहते हैं। रोशन के माता-पिता चाहते हैं कि वो इंजीनियर बने लेकिन उनका शुरु से ही कुकिंग से लगाव होता है। इसी वजह से वो एक दिन घर छोड़कर चले जाते हैं और न्यूयॉर्क के एक होटल में बड़े शेफ बन जाते हैं। शेफ बनने के सफर में रोशन की पर्सनल लाइफ पर भी काफी असर पड़ता है। किन्हीं परेशानियों की वजह से उनकी पत्नी राधा मेनन (पद्मप्रिया जानकीरमन) बेटा अरमान(स्वर कांबले) को लेकर उनसे अलग हो जाती है और वापस केरला(इंडिया) में रहने लगती हैं। एक दिन रोशन के लाइफ में एक ट्विस्ट आता है और वो जॉब छोड़कर वापस इंडिया पत्नी के पास केरला आ जाते हैं। यहां रोशन अपने बेटे अरमान के साथ कुछ वक्त बिताता है और चलती फिरती फूड ट्रक से दोबारा शेफ का शुरू करता है। कहानी में कई ट्विस्ट और टर्न्स आते हैं और ये एक फाइनल नतीजे पर पहुंचती है। क्या होता फिल्म का एंड ये जानने के लिए तो आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।

फिल्म का म्यूजिक

फिल्म में संगीत ठीक-ठाक ही है, रघू दीक्षित और अमाल मलिक ने फिल्म के हिसाब से म्यूजिक दिया है। हालांकि फिल्म कोई ऐसा सॉन्ग नहीं है जो याद रह जाए।

अगर फिल्म में एक्टिंग की बात करें तो, एक शेफ के रोल में सैफ अली खान खूब जंचे हैं। इस किरदार को लेकर सैफ की मेहनत परदे पर साफ दिखाई देती है। स्टाइलिश लुक के साथ गंभीर पिता के रूप में सैफ ने शानदार अभिनय किया है। साउथ की नामी एक्ट्रेस पद्मप्रिया ने भी अपने रोल के साथ न्याय किया है जबकि बेटे के रोल में स्वर कांबले का काम भी लाजवाब है।

फिल्म का डायरेक्शन और बैकग्राउंड स्कोर अच्छा है। फिल्म में केरला और न्यूयॉर्क की रियल लोकेशन दिखाई हैं जो काफी आकर्षक हैं। जैसा कि फिल्म पिता-पुत्र के रिलेशन को दर्शाती है ऐसे में कहानी पर थोड़ा और काम किया जा सकता था। वहीं ये कोई टिपिकल मसाला फिल्म नहीं है। इसमें न तो कोई आइटम सॉन्ग है न ही ये ठहाका लगाकर हंसने का मौका देती है। ये बातें फिल्म को काफी स्लो बनाती हैं और दर्शकों को बोर करती हैं। साथ ही फिल्म का क्लाइमेक्स और बेहतर किया जा सकता था।

अगर आप मूलत पारिवारिक रिश्तों के इमोशनल ड्रामे से भरपूर फिल्म का इंतजार कर रहे थे तो एक बार इसे देख सकते हैं।



loading...
 Movie Review: राजी

Movie Review: राजी

 Movie Review: बागी 2

Movie Review: बागी 2

 Movie Review: हिचकी

Movie Review: हिचकी

 Movie Review: रेड

Movie Review: रेड

 Movie Review: परी

Movie Review: परी

Facebook