Movie Review: इत्तेफाक

 Movie Review: इत्तेफाक
प्रोड्यूसर : शाहरुख खान, गौरी खान, करन जौहर, रेनू रवि चोपड़ा और हीरू यश जौहर
डायरेक्टर : अभय चोपड़ा
स्टार कास्ट : सिद्धार्थ मल्होत्रा, सोनाक्षी सिन्हा और अक्षय खन्ना
म्यूजिक डायरेक्टर : तनिष्क बागची
रेटिंग ***


48 साल पहले राजेश खन्ना और नंदा की फिल्म आई थी जिसका नाम था ‘इत्तेफाक’. उस फिल्म को बीआर चोपड़ा ने प्रोड्यूस किया था. अब बीआर चोपड़ा के पोते अभय चोपड़ा भी निर्देशक बन चुके हैं और उन्होंने फिल्म ‘इत्तेफाक’ के जरिए डेब्यू किया हैं. ये फिल्म भी एक थ्रिलर मर्डर मिस्ट्री है. इस फिल्म को रेड चिलिच एंटरटेनमेंट, धर्मा प्रोडक्शन और बीआर स्टूडियो ने एक साथ मिलकर प्रोड्यूस किया है. फिल्म में सिद्धार्थ मल्होत्रा, सोनाक्षी सिन्हा और अक्षय खन्ना मुख्य भूमिका में हैं. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या इस फिल्म में वो सारी खूबियां हैं जो लोगों को एंटरटेन कर पाएगी? आइये जानते है फिल्म का पूरा रिव्यू.

कहानी: फिल्म की कहानी राइटर विक्रम सेठी (सिद्धार्थ मल्होत्रा) से शुरू होती है. विक्रम, यूके से मुंबई अपनी नॉवेल लॉन्च करने आता है. इसी बीच एक रात विक्रम की वाइफ कैटरीन (किंबरली लूइसा मैकबेथ) की डेथ हो जाती है. वहीं, दूसरी ओर इसी रात माया (सोनाक्षी सिन्हा) के हसबैंड, जो वकील होता है, की भी डेथ हो जाती है. दोनों की डेथ नेचुरल नहीं होती और इसे हत्या बताया जाता है. विक्रम और माया के पार्टनर की हत्या का शक इन्हीं दोनों पर जाता है. लेकिन दोनों इससे साफ इंकार कर देते थे. दोनों के पास पुलिस ऑफिसर देव (अक्षय खन्ना) को सुनाने के लिए अलग कहानी होती है. दोनों यह साबित करने की कोशिश करते हैं कि उन्होंने यह खून नहीं किया है. माया, विक्रम पर जबर्दस्ती अपने घर के अंदर घुसने का आरोप लगाती है तो विक्रम बताता है कि माया का व्यवहार उसके साथ काफी फ्रेंडली था. विक्रम के अनुसार उसकी गाड़ी का एक्सीडेंट हो जाता है, जिसकी वजह से वो माया के पास मदद के लिए पहुंचता है. क्या देव सच का पता लगाकर खूनी को जेल पहुंचा पाएगा? माया या विक्रम आखिर कौन सच बोल रहा है? अगर इन दोनों ने खून नहीं किया तो आखिर किसने किए हैं यह डबल मर्डर? सच जानने के लिए आपको फिल्म देखनी होगी.

फिल्म का म्यूजिक: फिल्म में एक भी गाना नहीं है. इसका बैकग्राउंड म्यूजिक अच्छा है.

अभिनय: अगर फिल्म में एक्टिंग की बात करें तो, एक सस्पेंस थ्रिलर फिल्म में मजबूत कहानी के बाद फिल्म को आगे बढ़ाने का जिम्मा उसके कलाकारों के सिर होता है. सिद्धार्थ मल्होत्रा, सोनाक्षी सिन्हा और अक्षय खन्ना अपनी इस जिम्मेदारी को बखूबी निभाते दिखाई दिए हैं. तेज तरार पुलिस ऑफिसर के अंदाज में अक्षय का अभिनय शानदार है. जबकि सिद्धार्थ और सोनाक्षी ने अपने अभिनय के दम से फिल्म में सस्पेंस बनाए रखा है.

निर्देशन: फिल्म का डायरेक्शन और कैमरा वर्क अच्छा है. फिल्म की कहानी 1969 में आई फिल्म 'इत्तफाक' से काफी मुलती-जुलती है. फिल्म की रफ्तार काफी धीमी है. फिल्मांकन में भी कमी है. फिल्म में दिखाए गए सरप्राइज एलीमेंट को और दिलचस्प बनाया जा सकता था. हालांकि, फिल्म में आखिर तक दर्शक सोचने को मजबूर रहता है कि कातिल कौन हैं. जिन लोगों ने पुरानी इत्तेफाक देखी है उन्हें पता होगा कि फिल्म की कहानी क्या है.

यदि आपको सस्पेंस थ्रिलर मूवी देखने का शौक है और आप सिद्धार्थ मल्होत्रा, सोनाक्षी सिन्हा और अक्षय खन्ना के फैन है तो ही फिल्म देखने जाए. फिल्म रिलीज के पहले ही बॉलीवुड के कई बड़े कलाकारों ने इस फिल्म को लेकर नो स्पॉइलर मुहीम चलाई. ऐसे में आप भी इस फिल्म देखने जाए लेकिन किसी से इसके सस्पेंस का जिक्र ना करें.



loading...
 Movie Review: राजी

Movie Review: राजी

 Movie Review: बागी 2

Movie Review: बागी 2

 Movie Review: हिचकी

Movie Review: हिचकी

 Movie Review: रेड

Movie Review: रेड

 Movie Review: परी

Movie Review: परी

Facebook